#दशहरा #Dussehra #Vijayadashami : day 10 of Navratri

Get #Pray App today #दशहरा आप सभी को दशहरा की हार्दिक शुभ कामना | दशहरा को संपूर्ण भारत में बुराई पैर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है| दशहरा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहारों में से एक है । यह त्योहार अशिवन महीने के शुक्ल पक्ष Read more…

Give some Likes to Authors

सिद्धिदात्री माता : Day 9 of Navratri

Today’s Color: Purple Get #Pray App today #Siddhidatri सिद्धगधर्व यक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।। सिद्धिदत्री देवी दुर्गा का नवां रूप है, माता के नाम में : सिद्धि का मतलब अलौकिक शक्ति या ध्यान क्षमता वाली है , और धत्री का अर्थ है दाता या पुरस्कार विजेता। नवरात्रि के नौवें Read more…

Give some Likes to Authors

Mata Mahagauri महागौरी : Day 8 of Navratri

Today’s Color: Pink Download : Pray App today ॐ देवी महागौर्यै नमः॥ श्वेते वृषे समरूढा श्वेताम्बराधरा शुचिः। महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा।। या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। महागौरी देवी दुर्गा का आठवां रूप है। महागौरी की नवरात्रि के आठवें दिन पूजा की जाती है पौराणिक Read more…

Give some Likes to Authors

Mata Kaalratri कालरात्रि : Day 7 of Navratri

Today’s Color: Blue नवरात्रि सप्तमी के सातवें दिन, माता कालरात्रि की पूजा की जाती है | कालरात्रि को शुभंकरी (शुभंकरी) के रूप में भी जाना जाता है, संस्कृत में “शुभ” का अर्थ है शुभ , इस विश्वास की वजह से कि वह हमेशा अपने भक्तों को शुभ परिणाम प्रदान करती Read more…

Give some Likes to Authors

Mata Katyayani कात्यायनी : Day 6 of Navratri

Today’s Color: Red या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कात्यायनी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। चंद्र हासोज्ज वलकरा शार्दूलवर वाहना| कात्यायनी शुभंदद्या देवी दानव घातिनि|| नवदुर्गा के नौ रूपों के छठे रूप को कात्यायनी माता के नाम से सम्बोधित किया जाता है, इस दिन दुष्टों का नाश करनेवाली भगवती कात्यायनी Read more…

Give some Likes to Authors

Mata skandamata स्कंदमाता : Day 5 of Navratri

Today’s Color: White ॐ देवी स्कन्दमातायै नमः॥ सिंहासनगता नित्यं पद्माञ्चित करद्वया। शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥ स्कंदमाता, देवी दुर्गा का पांचवां रूप है। शब्द “स्कंद” यानि “भगवान कार्तिकेय का दूसरा नाम” और “माता” यानी “मां” से माता का नाम स्कंदमाता आता है। स्कंदमाता की पूजा नवरात्रि के पांचवें दिन पर Read more…

Give some Likes to Authors

Mata Kushmanda कुष्मांडा : Day 4 of Navratri

Today’s Color: Orange सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे॥ माता कुष्मांडा का अर्थ , कू का अर्थ है “एक छोटी सी”, ऊष्मा का अर्थ है “गर्मी” या “ऊर्जा” और अंडा का अर्थ है “ब्रह्मांडीय अंडे” । (Navadurga की नौ रातें) नवरात्रि त्योहार के चौथे दिन की उपासना शिव Read more…

Give some Likes to Authors

Mata Chandraghanta चन्द्रघण्टा : Day 3 of Navratri

Today’s Color : Gray |  नवरात्रि की पूजा – नवरात्रि के तीसरे दिन देवी चंद्र-घण्टा की पूजा की जाती है| ॐ देवी चन्द्रघण्टायै नमः॥ Om Devi Chandraghantayai Namah॥ पिण्डज प्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता। प्रसादं तनुते मह्यम् चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥ Pindaja Pravararudha , Chandakopastrakairyuta। Prasadam Tanute Mahyam Chandraghanteti Vishruta॥ देवी का नाम चंद्र-घण्टा है, Read more…

Give some Likes to Authors

Brahmacharini ब्रह्मचारिणी : 2nd Day of Navaratri

Today’s Color : Green  ॐ देवी ब्रह्मचारिण्यै नमः॥ दधाना कर पद्माभ्यामक्षमाला कमण्डलू। देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥ Read More Mantra “देवी ब्रह्मचारिणी सफेद रंग के कपड़े पहनती हैं, वह अपने हाथों में रूद्राक्ष माला, कमल के फूल, कामंदलु, रखती हैं। देवी ब्रह्मचारिणी देवी की “तपस्वानी” रूप है … जो काम और Read more…

Give some Likes to Authors

अथ अर्गला स्तोत्र Argala Stotra

 नमश्चण्डिकायै नम: ||  नमश्चण्डिकायै नम: ||   नमश्चण्डिकायै नम:  नमश्चण्डिकायै नम: ||  नमश्चण्डिकायै नम: ||   नमश्चण्डिकायै नम:  नमश्चण्डिकायै नम: || नमश्चण्डिकायै नम:  || नमश्चण्डिकायै नम:   मार्कण्डेयजी कहते है – जयन्ती मंगला, काली, भद्रकाली कपालिनी, दुर्गा, क्षमा, शिवा धात्री, स्वाहा और स्वधा इन नामों से प्रसिद्ध देवी! तुम्हें मैं नमस्कार करता हूँ, हे Read more…

Give some Likes to Authors

अथ देवी कवच Ma Devi Kavach

[huge_it_slider id=”1″] महर्षि मार्कण्डेयजी बोले – हे पितामह! संसार में जो गुप्त हो और जो मनुष्यों की सब प्रकार से रक्षा करता हो और जो आपने आज तक किसी को बताया ना हो, वह कवच मुझे बताइए। श्री ब्रह्माजी कहने लगे – अत्यन्त गुप्त व सब प्राणियों की भलाई करने Read more…

Give some Likes to Authors